Bihar Now
ब्रेकिंग न्यूज़
Headlinesअन्यअपराधजीवन शैलीटैकनोलजीटॉप न्यूज़दिल्लीफोटो-गैलरीबिहारब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिराष्ट्रीय

“अब मछुआरा केवल मछली ही नहीं मारता, सांसद भी बनाएगा”… चुनावी सभा को संबोधित करते बोले मुकेश सहनी…

पटना ; विकासशील इंसान पार्टी के संस्थापक और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी ने आज कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में हमने पूरे देश को दिखा दिया था कि अब मछुआरा केवल मछली ही नहीं मारता , विधायक भी बना सकता है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि इस चुनाव में वे सांसद भी बनाएंगे।

वीआईपी के नेता मुकेश सहनी आज समस्तीपुर, दरभंगा, बेगूसराय, मुंगेर और वैशाली में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह चुनाव सम्मान की लड़ाई है। उन्होंने लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि यह सरकार कभी नहीं चाहती कि गरीब , पिछड़े आगे बढ़ सके। आज सम्मान की लड़ाई के लिए एकजुट होकर ऐसी सरकार को बदलना होगा।

उन्होंने साफ तौर पर कहा कि आज लोकतंत्र और संविधान खतरे में है। यही संविधान है जिसने हमें अधिकार दिया है। राजद नेता तेजस्वी यादव के साथ अलग – अलग चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए उन्होंने महागठबंधन के प्रत्याशियों को वोट देने की अपील करते हुए कहा कि यह चुनाव प्रधानमंत्री चुनने के लिए है। आज जो सरकार है वह नहीं चाहती है कि गरीब और पिछड़े आगे बढ़े और सम्मान के साथ जिंदगी जिए।

उन्होंने कहा कि पहले हमलोंगो को सम्मान नहीं मिलता था हमें साथ नहीं बैठाया जाता था, लेकिन संविधान मिलने के बाद हमें यह अधिकार मिला। आज इसी संविधान को बदलने की कोशिश की जा रही है।

उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में चार विधायक हमारे जीते, लेकिन साजिश के तहत भाजपा ने विधायक खरीद लिए और उस सरकार से हमे अलग कर दिया गया, जिसे हमने बनाया था।

उन्होंने लोगों को एकजुट होकर महागठबंधन की लालू प्रसाद की विचारधारा वाली सरकार बनाने की अपील करते हुए कहा कि हमे ऐसी सरकार चाहिए जो गरीबों को अधिकार दे और गरीबों का कल्याण करे।

Related posts

सहरसा में दूषित पानी पीने को लोग मजबूर,पानी टंकी बंद होने से ग्रामीणों में आक्रोश

Bihar Now

Big Breaking : बिहार के प्रधान स्वास्थ्य सचिव का तबादला, प्रत्यय अमृत को मिली स्वास्थ्य विभाग की कमान …

Bihar Now

राष्ट्रीय लोक अदालत का किया गया आयोजन, मुकदमा पूर्व व लंबित वाद मामलों का सुलह समझौते के आधार पर निपटारा…

Bihar Now

एक टिप्पणी छोड़ दो