Bihar Now
ब्रेकिंग न्यूज़
Headlinesअन्यअपराधटॉप न्यूज़बिहारब्रेकिंग न्यूज़राष्ट्रीय

फिल्मी अंदाज में वर्षों से फरार अपराधी की हुई गिरफ्तारी…

बी एन सिंह पप्पन,क्राइम रिपोर्टर ,सहरसा

सहरसा – वर्षों से फरार कुख्यात अपराधी सूरज कुमार उर्फ सूरज दास सदर थाना पुलिस ने तीन अन्य सयोगी कुख्यात अपराधी के साथ गिरफ्तार किया है।मालूम हो कि सूरज को सहरसा पुलिस वर्ष 2013 से खोज रही थी । प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कुख्यात सूरज बुधवार को सहरसा न्यायालय में आत्मसमर्पण करने जा रहा था । इसी क्रम में पुलिस ने न्यायालय गेट पर सादे लिवास में धरदबोचने का प्रयास की लेकिन उसे चकमा देकर बाइक से भागना चाहा लेकिन समाहरणालय के सामने पुलिस ने दबोच लिया।अपराध जगत में चमकते सूरज को सहरसा पुलिस ने अपराध के जगत से अस्त कर दिया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार सूरज कोशी , पूर्णिया एवं भागलपुर प्रमंडल में अपराधी गिरोह चलता था। इसपर हत्या, राहजनी, लूट जैसे कई मामले में पुलिस तलाश कर रही थी।सूरज के गिरफ्तारी के बाद इसके निशान देहि पर तीन और अपराधी को सदर थाना पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की।

कुख्यात के गिरफ्तारी के बाद पुलिस अधीक्षक राकेश कुमारने प्रेसवार्ता कर मीडिया जानकारी देते हुए कहा कि अंतरजिला गिरोह के सरगना कुख्यात अपराधी सूरज कुमार उर्फ सूरज दास समेत उसके तीन साथी बिट्टू कुमार, गुड्डू कुमार, व सौरभ कुमर को गिरफ्तार किया गया है।गिरफ्त में आये अपराधी के पास से एक 7.65 एम एम का लोडेड पिस्टल .315 देशी कट्टा 8 जिंदा कारतूस समेत तीन मोबाइल किया बरामद।

बता दें कि पुलिस को बीती रात गुप्त सूचना मिली थी कि सूरज उर्फ सूरज दास अपने तीन साथी के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के फिराक में था। कुख्यात सूरज की तलाश कई महीनों से थी। सूरज उर्फ सूरज दास बनगांव थाना के बरियाही का रहने वाला है, तो वहीं बिट्टू व गुड्डू बिहरा थाना क्षेत्रा के नन्दलाली का रहने वाला .वहीं सौरभ बनगांव थाना के राहुआमणि का रहने वाला।

पुलिसअधीक्षक श्री कुमार ने कहा कि सहरसा के विभिन्न थानों में 6 मामला सामने आया है औऱ थाने के रनिंग रजिस्टर से खोजा जा रहा है । अन्य जिले को भी इसके गिरफ्तारी की सूचना दे दी गई है, दूसरे जिले के कांडो का भी लिस्ट आ रहा है। जानकारों के अनुसार वर्ष 2013 से इसे गिफ्तार करने कई वार सहरसा एस पी ने टास्क फोर्स का गठन किया था लेकिन वह तब गिरफ्तार होता है जब वह आत्म समर्पण करने न्यायालय पहुँचता है।भले पुलिस अपनी पीठ जितना हो थप थपा ले लेकिन इससे यह सामने जरूर आया कि जब तक सूरज चाहा तबतक पुलिस के हाथ नही आया ।

Related posts

तेजस्वी यादव पर‌ नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा का हमला… पूछा – इफ्तार में जाने से कितने लोगों का भला हुआ ?…मुस्लिम तुष्टीकरण के कारण सनातन सभा में जाने से परहेज ? …

Bihar Now

बीजेपी के ब्लैक डे मनाने पर‌ RJD का पलटवार, काला दिन मनाने के बजाय आज उन्हें अपने चेहरे पर कालिख पोत लेनी चाहिए…

Bihar Now

RJD ऑफिस के बाहर लगे पोस्टर पर JDU का प्रहार…

Bihar Now

एक टिप्पणी छोड़ दो